मंगलवार, 5 जनवरी 2016

"कलियाचक"घटना से कैलाश विजयवर्गीय का खेद

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले मे कल आतंक का नंगा नाच चलता रहा और वोट बैंक की राजनीति करने वाली ममता बनर्जी सरकार हाथ पर हाथ धरे तमाशा देखती रही।

तृणमूल काँग्रेस के वोट बैंक और बांग्लादेशी घुसपैठियों ने मिलकर मालदा जिले के "कलियाचक" नामक स्थान पर थाने में आग लगा दी, भारत विरोधी नारे लगाये, सैंकड़ों वाहनों को फूँक दिया, हिन्दू घरों पर हमला किया जिसमें अनेकों लोग घायल हुए व करोड़ों की संपत्ति को नुकसान पहुंचा, लेकिन अभी तक एक भी गिरफ़्तारी न होना सरकार की बदनीयती को साफ दर्शाता है।
मालदा की घटना बताती है कि बंगाल बारूद के मुहाने पर बैठा है, यह कानून का नहीं बांग्लादेशी घुसपैठियों का राज है।
इतनी बड़ी घटना हो जाने के बाद भी किसी भी समाचार माध्यम द्वारा इसकी जानकारी न देना, संचार माध्यमों पर भी सरकारी आतंक को प्रदर्शित करता है।
News sent by; Basudeb Pal

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें