मंगलवार, 27 अक्तूबर 2015

व्यक्ति-निर्माण की पाठशाला है संघ : श्री राजकुमार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, रायपुर महानगर
प्रेस—विज्ञप्ति
आरएसएस ने मनाया विजयादशमी उत्सव
व्यक्ति-निर्माण की पाठशाला है संघ : श्री राजकुमार
नगर के विभिन्न मार्गों में 500 तरूण स्वयंसेवकों ने किया पथ-संचलन

रायपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस तथा विजयादशमी उत्सव आज सप्रे शाला मैदान में प्रात:काल सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित संघ के क्षेत्र संपर्क प्रमुख श्री राजकुमार जी ने कहा कि यदि हिन्दु समाज छुआछूत, जातिवाद या संप्रदाय-भेद से ऊपर उठकर आगे बढ़े तो दुष्ट शक्तियां हतोत्साहित-पराजित हो सकेंगी।

स्त्रियों का जीवन प्रकाशित करना, यही सच्ची दीपावली

 - सुनीला सोवनी
जैसे ही आकाश में नीले काले मेघ गरजने लगते हैं सम्पूर्ण सृष्टि रोमांचित हो उठती है। धरती गाने लगती है। और फिर निर्मिती का वह आनंद चारों दिशाओं में फैलने लगता है। शस्य श्यामला धरती हरयाली साडी पहनकर वनस्पति, पशु-पक्षी सहित मानव जीवन को पुलकित, उलासित कर देती है। सृष्टि का यह आनंद उत्सव हर सजीव को समृद्ध बना देता है।

गुरुवार, 22 अक्तूबर 2015

डॉ. मोहन जी भागवत कहीन

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत ने कहा कि आम आदमी जब कुछ निश्चित करने की सोच ले तो वह नर का नारायण हो सकता है तथा नराधम भी हो सकता है. नर का नारायण होने के लिए कठोर मेहनत के बजाय दूसरा मार्ग उपलब्ध नहीं है. मात्र उन प्रयास तथा कष्ट करने में आम आदमी पीछे रहता है. इसका कारण बल नहीं तो साहस का अभाव है. डॉ. अजित फड़के ने अपने जीवन में केवल लोकसंग्रह ही नहीं किया, बल्कि लोगों के सामने आदर्श उदाहरण प्रस्थापित करने वाला जीवन व्यतीत किया है.

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2015

वैदिक संस्कृति व समृद्धि के प्रणेता - महाराज अग्रसेन

-विनोद  बंसल
Writer
द्वापर युग के अन्त और कलयुग के प्रारम्भ में एक ऐसे महापुरुष का प्रादुर्भाव हुआ जिसने न सिर्फ़ भारत में एक गणतांत्रिक शासन व्यवस्था, उत्तम सिंचाई व्यवस्था, समाजवाद, समरसता व समानता का पाठ पढाया वल्कि सच्चे राम राज्य की स्थापना कर ऐसे संस्कारी पुत्र दिए जो आज भी पूरे विश्व का भरण पोषण कर अपना कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। विश्व का शायद ही कोई कोना होगा जहां की प्रगति और उन्नति में किसी अग्रवाल की भूमिका न हो। अपनी मेहनत, लगन व बुद्धि कौशल के लिए प्रसिद्ध अग्रवाल समाज के लोग जहां भी है वे सब उन्हीं महाराज अग्रसेन के वंशज हैं।