बुधवार, 30 सितंबर 2015

गणेश विसर्जन की शोभायात्रा पर फेंका गोमांस, शहर में तनाव

September 29, 2015
हिंदूं भाइओ, ध्यान में रखे कि ऐसी घटनाएं करनेवाले जानबूझ कर आपकी धार्मिक भावनाएं आहत करना चाहते है । ऐसी घटनाआें को रोकने के लिए उत्तरप्रदेश की समाजवादी पार्टी की सरकार कुछ नहीं करेगी । यह स्थिती बदलने हेतु अब हिन्दुओ को ही संगठित होना चाहिए !

शहर के मिश्रित आबादी वाले दो अतिसंवेदनशील इलाके मंटोला के नाला महावीर की वाल्मीकि बस्ती और ईदगाह (कठघर) के मोहल्ला सराय में रविवार को जिहादीयों ने सांप्रदायिक बवाल खडा कर दिया।
वाल्मीकि बस्ती में पूर्वाह्न ११ बजे गणपति विसर्जन शोभायात्रा पर गोमांस का टुकड़ा फेंके जाने के आरोप के बाद दो समुदायों में टकराव हुआ। सराय में शाम छह बजे गणपति पंडाल के बाहर वाहनों पर लगे लाउडस्पीकर बंद कराने की कोशिश पर हालात बिगड़ गए। दोनों पक्षों में हुए पथराव में महिला समेत तीन लोग घायल हो गए।

पुलिस प्रशासन ने हालात काबू में तो कर लिए लेकिन तनाव बना हुआ है।
मंटोला में वाल्मीकि बस्ती से विसर्जन शोभायात्रा हाथी गेट की ओर चला था। आरोप है कि तभी नाला महावीर से कुछ शरारती युवकों ने गोमांस का टुकड़ा फेंक दिया। इस पर श्रद्धालुओं में आक्रोश फैल गया। उन्होंने यात्रा को रोक दिया। कुछ ही देर में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के नेता भी पहुंच गए। उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों पर आरोप लगाते हुए मंटोला थाना घेर लिया। इसी दौरान नाला महावीर में कुछ लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। इससे भगदड़ मच गई।
बवाल की सूचना पर पहुंचे एडीएम सिटी राजेश श्रीवास्तव और एसपी सिटी आरके सिंह ने कार्रवाई का आश्वासन देकर प्रदर्शनकारियों को शांत किया। इसके बाद पीएसी भी बुला ली गई।
उधर, अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भी नाला महावीर में सड़कों पर निकल आए। पीएसी ने उन्हें घरों में भेजा। कई घंटे तक तनावपूर्ण हालात बने रहे।
विश्व हिंदू परिषद के दीपक अग्रवाल, बजरंग दल के अरुण माहौर, राजीव शर्मा, गजेंद्र पाल, बॉबी वाल्मीकि ने बताया कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने विसर्जन शोभायात्रा में गोमांस फेंककर माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की।
उधर, ईदगाह (कटघर) के सराय के लोग शाम करीब छह बजे स्थापित गणेश पांडाल से मूर्ति को विसर्जन के लिए ले जाने की तैयारी कर रहे थे। वाहनों में लगे लाउडस्पीकर पर धार्मिक गीत बजाए जा रहे थे। आरोप है कि इसी बीच पास में स्थित मस्जिद से अल्पसंख्यक के लोग पहुंचे। उन्होंने लाउडस्पीकर को बंद करने को कहा। इसको लेकर कहासुनी हो गई। कुछ देर बाद जब शोभायात्रा शुरू हुआ तो पथराव शुरू हो गया। आरोप है कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने शोभायात्रा पर पथराव कर दिया। शोभायात्रा में शामिल लोगों में भगदड़ मच गई। इसके बाद दोनों पक्षों में आधा घंटा तक आमने सामने पथराव हुआ।
इसमें महिला समेत तीन लोगों को चोटें आईं। सूचना पर एडीएम सिटी और एसपी सिटी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस अफसरों ने मूर्तियों को उठवाकर विसर्जन को भेजा। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पथराव करने का आरोप लगाया। पुलिस बलवाइयों को चिह्नित कर रही है।
स्त्रोत : अमर उजाला & VSK orissa

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें