शनिवार, 11 जुलाई 2015

जनसंख्या नियंत्रण से अधिक जन-विकास आवश्यक : विहिप

विश्व जनसंख्या दिवस पर किया जन-विकास यज्ञ

नई दिल्ली। जुलाई 11, 2015।  विश्व जनसंख्या दिवस पर आज विश्व हिन्दू परिषद की प्रेरणा से जन विकास यज्ञ का आयोजन कर “कृणवन्तो विश्वमार्यम” यानि विश्व को श्रेष्ठ बनाने का संकल्प लिया गया। यज्ञोपरान्त सम्बोधित करते हुए विहिप प्रवक्ता श्री विनोद बंसल ने कहा कि जनसंख्या दिवस पर आज चारों ओर जनसंख्या नियंत्रण की बात तो हो रही है किन्तु असली जन-विकास का मुद्दा कहीं न कहीं गौण होता जा रहा है।
उन्होंने कहा कि वेदों में वर्णित ज्ञान-विज्ञान के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों का समुचित प्रयोग करते हुए यदि जनसंख्या का चहुं-मुखी विकास किया जाए तो यही जनसंख्या के आंकडे जो आज भयावह लगते हैं विश्व कल्याण में सहभागी नजर आएंगे। हां, आवश्यकता इस बात की भी है कि आर्थिक और सामाजिक विसंगतियों का निवारण करते हुए जनसंख्या असंतुलन को भी समाप्त किया जाए और बच्चे के जन्म से ही उसमें उत्तम संस्कार, उत्तम अनिवार्य शिक्षा, स्वावलम्वन तथा राष्ट्र भक्ति से ओतप्रोत व्यक्तित्व विकास पर बल दिया जाए।



विश्व शान्ति और जन-मूल्यों के समुचित विकास के लिए प्रार्थना करते हुए  विश्व हिन्दू परिषद ने आज दक्षिणी दिल्ली के संत नगर स्थित आर्य समाज मंदिर में जन विकास यज्ञ का आयोजन किया। यज्ञ की वृह्मा वैदिक विदुषी श्रीमती विमलेश आर्या ने कहा कि वेदोक्त आचरण और आत्म नियंत्रण ही जन विकास का आधार है। प्रत्येक देश बासी यदि एक बार भी यज्ञ में आहुति दे कर वेद मन्त्रों का पठन पाठन व चिन्तन मनन आरम्भ कर दे तो विश्व की सारी समस्याएं स्वत: छू मन्तर हो जाएंगी।

     इस अवसर पर आर्य समाज संत नगर व विहिप के पदाधिकारियों के अलावा समाज जीवन से जुडे अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।



भवदीय



विनोद बंसल,

मीडिया प्रमुख,

इंद्र्प्रस्थ विश्व हिंदू परिषद, दिल्ली। 

मो 9810949109

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें