गुरुवार, 2 अप्रैल 2015

सेवा भारती : दूसरा राष्ट्रीय सेवा संगम 4, 5 और 6 अप्रैल को नई दिल्ली में

जानिये : राष्ट्रीय सेवा भारती अपना व्दितीय राष्ट्रीय सेवा संगम दिल्ली में अनुष्ठित होगी. आगामी 4, 5 और 6 अप्रैल को आयोजित करने जा रही है. यह ब्लू सफायर एण्ड सिटी पैलेस रिसोर्ट, जीटी करनाल रोड, अलीपुर एनएच-,1 दिल्ली में होगा, जिसका केवल तीनों दिनों के लिये पुनःनामकरण ‘‘समरसता नगर’’ के रूप में किया जायेगा. पहला संगम पांच वर्ष पूर्व बंगलुरु में हुआ था.
यह जानका री आज यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह सेवा प्रमुख श्री अजित प्रसाद महापात्र ने संवाददाताओं को दी. उन्होंने कहा कि संगम का उद्घोष वाक्य है ‘समरस भारत-समर्थ भारत’.  इसे स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि संघ समाज के वंचित वर्ग के लोगों को नारायण मानकर उन्हें आत्म निर्भर बनाना और उनमें स्वाभिमान जाग्रत करना चाहता है.
उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह संगम समरस भारत समर्थ भारत के स्वप्न को एक राष्ट्रीय प्रतिज्ञा में बदलेगा और सभी भागीदारों को राष्ट्रीय सेवा भारती द्वारा पूरे राष्ट्र को समग्र रूप से एकीकृत करने के लिये स्थापित लक्ष्यों तथा उद्देश्यों के बारे में स्व उत्साही बनाने में उत्प्रेरक की भूमिका निभायेगा.
संगम का उद्घाटन परम पूज्य संत अमृतानन्दामयी अम्मा के आशीर्वाद सहित मुख्य अतिथि विख्यात उद्योगपति और व्यापारी श्री अतुल गुप्ता द्वारा 4 अप्रैल को प्रातः 10 बजे किया जायेगा. उसी दिन सायं 5 बजे संघ के सरकार्यवाह जी सुरेश (भय्या जी) एस जोशी प्रतिभागियों को सामाजिक मुद्दों और राष्ट्रीय सरोकारों से आलोकित करेगें.
5 अप्रैल को प्रातः 10.30 बजे 500 विद्वान एक सार्वजनिक कार्यक्रम को गौरवान्वित करेगें और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में विप्रो अध्यक्ष श्री अजीम प्रेमजी रहेंगे. इस सत्र में परम पूज्य सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का उद्बोधन होगा.
समापन सत्र 6 अप्रैल 2015 का प्रातः 11 बजे आयोजित होगा जिसमें सह सरकार्य श्री दत्तात्रेय होसबले जी भाग लेने वालों को अपने प्रेरक भाषण के साथ संबोधित करेगें और सम्पूर्ण भारत के समाज के अभावग्रस्त वर्गों की हर समय हर जगह सेवा करने के महत्वपूर्ण अवसरों को दर्शायेगें.
राष्ट्रीय सेवा भारती समाज के अधिकार विहीन और अभावग्रस्त वर्ग की आवश्यकताओं को अनवरत कल्याणकारी कार्यों के माध्यम से पूरा करने वाला एक छत्र संगठन है जो स्वार्थरहित, सामाजिक स्वैच्छिक कार्यकर्ताओं और अखिल भारतीय स्तर पर संघ परिवार की विभिन्न शाखाओं से लिये गये स्वयंसेवियों के समर्पित तथा वचनबद्ध कार्यबल द्वारा प्रारम्भ किया गया है.
आज राष्ट्रीय सेवा भारती भारत के एक अग्रणी, सामुदायिक सेवा चालित, गैर सरकारी संगठन के रूप में बहुत तेजी से बढ़ चुका है, जिसमें देशभक्ति और राष्ट्रीय के मूल्य सन्निहित हैं, जो अन्तिम लाभ प्राप्तकर्ता तक पहुंचाये जा रहे हैं। राष्ट्रीय सेवा भारती वर्तमान समय में उल्लेखनीय परियोजनाओं जैसे लातूर में विवेकानन्द मेडिकल फाउंडेशन और रिसर्च सेन्टर, आर एसएस जनकल्याण समिति महाराष्ट्र प्रान्त, गुवाहाटी में आरोग्य चेतना शिविर, जयपुर में सेवा भारती समिति, गोवा में सेवा साधना, सूरत में डा. अम्बेडकर वनवासी कल्याण ट्रस्ट, पर्यावरण, ग्राम विकास, अनुसंधान आदि को चलाने में लगा है, जिसने जन कल्याण के वास्तविक हित में बड़ा योगदान दिया है.
तीन दिनों के प्रशंसक मेले का एक अन्य आकर्षण राष्ट्रीय सेवा भारती की विभिन्न इकाइयों द्वारा सम्पूर्ण मानवता के लिए गायों का संरक्षण और कल्याण के उद्देश्य के उत्थान के लिये की गई विशाल प्रगति को रेखांकित करने हेतु फोटो गैलरी और ध्वनि दृश्य प्रस्तुति को दर्शाती एक विशिष्ट प्रदर्शनी है. इस प्रदर्शनी का उद्घाटन शारदापीठ के शंकराचार्य राज राजेश्वराश्रम करेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें