शुक्रवार, 20 मार्च 2015

अवध मे विश्व हिन्दू परिषद कि 84 कोसी परिक्रमा



विषय: अवधधाम 84 कोसी परिक्रमा 

भारत एक आध्यात्मिक राष्ट्र है। इसकी सांस्कृतिक राजधानी अयोध्यापुरी है। अयोध्या अथवा अवधपुरी धाम की पौराणिक दृष्टि से सांस्कृतिक सीमाएँ निर्धारित हैं। हमारे ऋषि-मुनियों ने तीर्थक्षेत्र की अस्मिता वहाँ की परम्पराओं को अक्षुण्य बनाए रखने के लिए तीर्थक्षेत्र की सीमाओं का निर्धारण कर, उसकी परिक्रमा करने का सांस्कृतिक विधान जन-जन के हृदय में स्थापित किया है। पौराणिक मान्यतानुसार अवधपुरी धाम की तीन परिक्रमा (पंचकोसी, चैदह कोसी, चैरासी कोसी) करने का विधान अनन्तकाल से है, जिसका उल्लेख अनेक पौराणिक ग्रन्थों में मिलता है।
अभी तक 84 कोसी परिक्रमा में एक निश्चित संख्या में ही कुछ साधु-सन्त और सद्गृहस्थ भाग लेते रहे हैं, जबकि धार्मिक, सांस्कृतिक दृष्टि से इस 84 कोसी परिक्रमा का महत्व बहुत अधिक है।
इस बात को दृष्टिगत रखते हुए और जनमानस को इस परिक्रमा के साथ जोड़ने के लिए ‘‘अवध धाम 84 कोसी परिक्रमा’’ करने का निर्णय लिया गया है। यह परिक्रमा वैशाख कृष्ण प्रतिपदा तदनुसार 05 अप्रैल, 2015 रविवार को मखभूमि (मखौड़ा) जिला-बस्ती से परिक्रमा आरम्भ होकर वैशाख शुक्ल सप्तमी तदनुसार 25 अप्रैल, 2015 शनिवार को मखौड़ा में ही आकर पूर्ण होगी। इस प्रकार परिक्रमा का यह अनुष्ठान 21 दिवसीय होगा।
विशेष कार्यक्रम: रामार्चा एवं भण्डारा - सीताकुण्ड, अयोध्या (0प्र0)
वैशाख शुक्ल नवमी (सीता नवमी
तदनुसार 27 अप्रैल, 2015 सोमवार को होगा।

सभी धर्मप्रेमी सज्जनों से आग्रह है कि अपने क्षेत्र के साधु सन्तों सद्गृहस्थों को इस परिक्रमा में सम्मिलित होने के लिए तैयार करें। परिक्रमा का यह धार्मिक अनुष्ठान आप सभी बन्धुओं के सक्रिय सहयोग से ही सम्पन्न होगा। साधु-सन्तों के भोजन, प्रसाद, रामार्चा पूजा एवं सीतानवमी पर भण्डारे में सहयोग करने वाले बन्धु-भगिनी नीचे लिखे बन्धुओं से सम्पर्क करके अपनी सेवा प्रदान कर सकते हैं। 
आप सभी पर प्रभु श्रीराम की कृपा बनी रहे, यही मंगल कामना करते हैं। जय श्रीराम।
निवेदक


(चम्पतराय) (राजेन्द्र सिंह पंकज)
महामंत्री        केन्द्रीय मंत्री-विश्व हिन्दू परिषद
   विश्व हिन्दू परिषद जन-जागरण आयाम

सम्पर्क सूत्र
श्री राजेन्द्र सिंह पंकज - 09415139200   
श्री कोटेश्वर शर्मा - 09013102851,  09560018282

--
हिन्दू विश्व
संकटमोचन आश्रम,
रामकृष्णपुरम,
नई दिल्ली-22

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें